Sale!

Sri Garg Samhita (श्रीगर्ग-सहिंता)

349.00

+ Free Shipping

Sri Garg Samhita (श्रीगर्ग-सहिंता) – Code 2260 – Gita Press

Categories: ,

यह ग्रन्थ यदुकुल के महान् आचार्य महामुनि श्रीगर्ग की रचना है। इस में श्रीमद्भागवत में सूत्ररूप से वर्णित श्रीराधाकृष्ण की लीलाओं का विस्तृत वर्णन किया गया है। श्रीराधा जी के दिव्य आकर्षण से आकर्षित भगवान् श्रीकृष्ण का रासरासेश्वरी श्रीराधा एवं गोपिकाओं के साथ रासलीला का इतना सुन्दर और सरस वर्णन अन्यत्र दुर्लभ है। पूर्वजन्म में गोपिकाओं द्वारा श्रीकृष्ण-प्रेम की प्राप्ति के लिये की गयी तपस्या तथा उनकी सरस कथाओं का भी इसमें सुन्दर वर्णन किया गया है। भगवान् श्रीकृष्ण के अनुरागी भक्तों के लिये यह दिव्य ग्रन्थ नित्य स्वाध्याय का विषय है।

AuthorSri Garg  Samhinta
PublisherGita Press, Gorakhpur
LanguageSanskrit – Hindi (Translation)
Edition

Pages

Cover

Other

2nd edition

1120

Hard Cover

2260 – Code

 

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Sri Garg Samhita (श्रीगर्ग-सहिंता)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shopping Cart